Major train accidents in 2017

साल 2017 के बस कुछ और बचे हैं और फिर नया साल दस्तक देने वाला है. इस साल कई यादगार पल रहे तो कई ऐसे भी घटित हुई जिसने लोगों का दिल दहला दिया. रेल हादसों से यह साल यातायात के लिए एक दुखदाई पल रहा और लोगों में दहशत भर दी. आज हम आपको इस साल हुए बड़े रेल हादसों के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्होंने रेलवे के इतिहास के लिए एक याद बना दिया. 

Major train accidents in 2017

2017 रेलवे के लिए बहुत निराशाजनक रहा और रेल इतिहास के लिए यह हमेशा यादगार बन गया. इस साल देश भर में कई बड़े रेल हादसों ने लोगों के दिलों में एक दहशत भर दी और यात्रियों में एक डर सा बैठ गया. लगातार हो रही इन दुर्घटनाओं को देखते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने रेल मंत्री सुरेश प्रभु को हटाकर नया मंत्री बनाया. पीयूष गोयल को नया रेल मंत्री बनाकर यह आश्वस्त किया की अब ऐसे रेल हादसे को विराम दिया जायेगा और इसके लिए कड़े कदम उठाये जायेंगे.

Major train accidents in 2017

एक नजर साल 2017 में हुए बड़े रेल हादसों पर…

22 जनवरी :

साल की शरूआत हुई ही थी की एक बड़े हादसे ने दस्तक दे दी और हर तरफ हाहाकार मच गया. 22 जनवरी यही वह दिन था जब आंद्रप्रदेश के विजयानगरम में जगदलपुर-भुवनेश्वर हिराखण्ड एक्सप्रेस दुर्घटनाग्रस्त हो गई. इस हादसे में कई यात्री हताहात हुए जिसमे से 27 लोगों की मौत और 36 लोग घायल हो गए थे.

7 मार्च :

साल का तीसरा महिना शुरू हुआ और एक और बड़े हादसे ने दिल दहला दिया. 7 मार्च को भोपाल-उज्जैन पैसेंजर ट्रेन में एक जोरदार धमाका हुआ और कई लोग इस हादसे में हताहात हो गए. यह भयानक दुर्घटना कालापीपल और सीहोर रेलवे स्टेशन के बीच जब्दी स्टेशन के पास हुआ और इस ट्रेन में हुए बम बिस्फोट में हिदयात इतनी रही की ज्यादा लोग इसकी चपेट में नहीं आये. इस हादसे में 8 लोग घायल हुए थे और घटना के पीछे अतंकवादियों का हाथ बताया गया था.

17 मार्च :

बेंगलूरू के एक चित्रदुर्गा इलाके में एक एम्बुलेंस और ट्रेन की जबरदस्त टक्कर हो गई थी जिसमे 4 महिलाओं की मौत हो गई थी. रिपोर्ट्स के मुताबिक़, ऐसा बताया गया कि एम्बुलेंस का ड्राइवर मानवरहित क्रोसिंग को पार करने की कोशिश कर रहा था जिसकी वजह से यह हादसा हो गया.

30 मार्च :

उत्तर प्रदेश के एक इलाके में महाकुल एक्सप्रेस के डिरेल होने की खबर आई जिसमे कई भारी तदाद में यात्री घायल हो गए थे. कुलपहाड़ स्टेशन के पास लाडपुर स्टेशन में हुए इस हादसे में करीब 5 दर्जन से ज्यादा यात्री घायल हो गए थे.

15 अप्रेल :

मेरठ से लखनऊ जा रही राज्यरानी इंटरसिटी एक्सप्रेस के 8 डब्बे डिरेल हो गए थे. उतरप्रदेश में हुए इस बड़े हादसे में करीब 60 लोग घायल हो गए थे.

19 अगस्त :

रेल हादसों में इस साल उत्तरप्रदेश सबसे अवल दर्जे पर रहा. इस साल सबसे ज्यादा हादसे प्रदेश में हुए जिनमे मुजफ्फरनगर के खतौली में हुआ हादसा सबसे बड़ा था. कलिंग उत्कल एक्सप्रेस बेपटरी हो गई जिसमे 23 लोगों की जान चली गई और 156 लोग घायल हुए थे.

23 अगस्त :

कैफियत एक्सप्रेस(12225) आजमगढ़ से दिल्ली की ओर जा रही यह ट्रेन मानवरहित फाटक से पार करते समय एक डंपर से टकरा गई और दुर्घटनाग्रस्त हो गई. इस हादसे में भी कई लोग घायल होने की खबर थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here