यूपी में 11 मार्च यानि कल चुनाव नतीजे आ जाएंगे। किसकी सरकार बनेगी  यह साफ हो जाएग, लेकिन इस सब के अलावा उत्तरप्रदेश के अलीगढ़ जिले में एक हैरतअंगज करने वाला मामला सामने आया है। अगर सुनेंगे तो आपकी रुह कांप जाएगी। एक लड़की जिसकी पहले मौत हो जाती है जब दाह संस्कार होता है तो जलती चिता से पुलिस शव निकाली है और फिर पोस्टमार्टम होता है क्या यह मर्डर मिस्ट्री है फिर और कुछ…  

दरअसल यूपी के अलीगढ़ जिले में ऐसा ही एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। एक लड़की की बीमारी के चलते मौत हो गई। उसका दाह संस्कार किया जा रहा था लेकिन उसी समय पुलिस ने जलती चिता से लड़की का शव उठाया और उसे पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

यह भी पढ़ें- इतिहास के पन्नो से: सेक्स की भूखी इस महारानी की मौत का कारण जानकार रह जायेंगे हैरान

ये है पूरा मामला-  

बुलंदशहर की रहने वाली रचना सिसौदिया नाम की लड़की ने 16 दिसंबर 206 को देवेश चौधरी उर्फ देव नाम के लड़के के साथ भागकर आर्य समाज मंदिर, ग्रेटर नोएडा में शादी की थी। बताया जा रहा है कि रचना के मां बाप नहीं है और रचना का परिवार करीब 12 साल पहले ही अलीगढ़ के बरौल गांव में शिफ्ट हो चुका है।

वहीं अगर लड़की के पति देवेश की मानें तो कुछ दिनों से रचना बीमार चल रही थी। उसके फेफड़ों में पानी भर गया था जिसके बाद 23 फरवरी को उसे नोएडा के शारदा हॉस्पीटल में भर्ती कराया गया था जहां उसकी 11 बजकर 25 मिनिट पर मौत हो गई है।

यह भी पढ़ें- खुले आसमान में इस कपल के हैरतअंगेज कारनामे देख सिहर जायेंगे आप, देखे तस्वीरे

मौत के बाद पति देवेश अपनी पत्नी का शव लेकर गांव पहुंचा। जहां रविवार को उसक दाह संस्कार किया गया,वहीं जब रचना के भाई को इसकी जानकारी मिली तो उसने इसकी जानकारी पुलिस को दी। पुलिस ने आनन-फानन में पहुंचकर जलती चिता से शव को निकाल लिया और पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया, लेकि‍न तब तक शव 70 परसेंट जल चुका था।

आखिर कैसे हुई मौत-  

आखिर लड़की की मौत कैसे हो गई इस बात को लेकर सस्पेंस बना हुआ है क्यों कि पुलिस का आनन-फानन में जलती चिता से लड़की का अधजला शव उठवा लेती है और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज देती है। ये कुछ कहता है।

यह भी पढ़ें- एक बार फिर पाकिस्तान का खौफनाक चेहरा आया सामने, कश्मीर में मारे गये आतंकवादी भी पाकिस्तानी नागरिक

पोस्टमार्टम की रिपोर्ट आते ही उड़े होश-

वहीं जब इस लड़की की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आती है तो सभी के होश उड़ जाते हैं रिपोर्ट में रचना की मौत चिता में जलाने के दौरान शॉक से हुई है। डॉ. चरन सिंह और डॉ. पंकज मिश्र के पैनल ने इस निष्कर्ष पर पहुंचने में करीब घंटे भर का समय लगाया। साथ ही सीएमओ डॉ एमएल अग्रवाल भी वहां मौजूद थे।

वहीं डॉक्टरों ने डीएनए टेस्ट के लिए हड्डी के 1 टुकड़े को संरक्षित कर पुलिस को सौंप दिया है। घटना की जांच के दौरान आगे इसकी जरूरत पड़ सकती है।

यह भी पढ़ें- 9 महीने तक चलने वाले इस रिएलटी शो में रियल में होगा रेप और मर्डर, शो का होगा लाइव प्रसारण

मौत का हुआ पर्दाफाश- 

डॉक्टरों का कहना है कि पोस्टमार्टम कौ दौरान रचना के फेफड़े और श्वांस नली पर कुछ जले हुए कण चिपके मिले थे। ऐसा तभी होता है, जब कोई व्यक्ति अचेत अवस्था में जिंदा जलाया जाए। सांस के साथ ही जले हुए बारीक कण फेफड़े तक जा सकते हैं। मुर्दा होने पर ऐसे कण फेफड़े तक नहीं पहुंच सकते।
आपको बता दें कि यही कण देखकर रचना के जिंदा जलाए जाने की बात की पुष्टि की है। साथ ही डॉक्टरों का यह भी कहना है कि 26 फरवरी दोपहर को 1 बजे के करीब पोस्टमॉर्टम के समय बॉडी को मरे हुए ज्यादा देर नहीं हुए थे, जबकि डेथ सर्टिफिकेट में मौत का समय 25 फरवरी रात 11:45 का है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here