क्रिकेट एक ऐसा खेल है जिसमे रोज एक नया रिकॉर्ड बनता है और एक पुराना रिकॉर्ड टूटता है। क्रिकेट इतिहास में सचिन तेंदुलकर ने सबसे ज्यादे रन और शतक बनाए हैं, लेकिन वो भी कहते हैं कि विराट और रोहित जैसे बल्लेबाज उनके रिकॉर्ड को तोड़ सकते हैं। क्रिकेट में इसके अलावा कुछ रिकॉर्ड ऐसे भी होते हैं जिन्हें तोड़ना काफी मुश्किल होता है। हम ऐसे ही एक रिकॉर्ड के बारे में आज आपको बताने जा रहे हैं।

1996 में अंडर-15 वर्ल्ड कप

युवराज सिंह आज भारतीय टीम में वापसी करने लिए संघर्ष कर रहे हैं। हालांकि वो अब अपने करियर के आखिरी दौर में ही चल रहे हैं। युवराज सिंह के नाम एक ऐसा ही रिकॉर्ड है जिसे अभी तक किसी ने नहीं तोड़ा है और उसे तोड़ना भी काफी मुश्किल है।

युवराज सिंह दुनिया के एकमात्र एक ऐसे खिलाड़ी हैं, जिन्होंने अपने करियर के 4 वर्ल्ड कप में मैन ऑफ द टूर्नामेंट का खिताब जीता है। सबसे पहले उन्होंने 1996 में अंडर-15 वर्ल्ड कप में मैन ऑफ द टूर्नामेंट का पहला खिताब जीता।

2000 में अंडर-19 वर्ल्ड कप

इसके बाद भारत ने सन् 2000 में अंडर-19 वर्ल्ड कप मोहम्मद कैफ की कप्तानी में अपने नाम किया। इस वर्ल्ड कप को जीताने में सबसे अहम भूमिका युवराज सिंह की थी, इसलिए उन्हें यहां एक बार फिर और दूसरी बार मैन ऑफ द वर्ल्ड कप का खिताब मिला। इसके बाद युवराज को अंतरराष्ट्रीय टीम में आने का मौका मिला और फिर उन्होंने कई बार मैच विनर पारियां खेली।

2007 में टी-20 वर्ल्ड कप

तीसरी बार सन् 2007 में पहली बार टी-20 वर्ल्ड कप का आयोजन हुआ और वहां भी युवराज ने पूरे टूर्नामेंट में जबरदस्त खेल दिखाया। युवराज की शानदार बल्लेबाजी, गेंदबाजी और फिल्डिंग की वजह से भारत ने महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में वर्ल्ड कप जीता। पहले टी-20 वर्ल्ड कप में युवराज के एक ओवर में 6 छक्के को कोई भी भुला नहीं पाएगा। लिहाजा युवराज अपने करियर में तीसरी बार वर्ल्ड कप के मैन ऑफ द टूर्नामेंट बने।

2011 में वनडे वर्ल्ड कप

इसके बाद युवराज के लाइफ का सबसे यादगार दिन 2 अप्रैल 2011 को आया भारत दूसरी बार धोनी की कप्तानी में वनडे विश्व विजेता बना। उस दिन युवराज का नाम एक फिर उसी खिताब के लिए पुकारा गया, जिसके लिए वो इतने सालों से इंतजार कर रहे थे। युवराज को पूरे वर्ल्ड कप में ऑलराउंडर प्रदर्शन करने के लिए एक बार फिर मैन ऑफ द वर्ल्ड कप के खिताब से नवाजा गया।

इस खिताब को जीतने के बाद ही युवराज को कैंसर की बीमारी ने घेरा, जिसका उन्होंने इलाज कराया और एक बार फिर मैदान में वापस चौके-छक्के मारकर दिखा दिया, कि बीमारी उनसे उनकी सबसे प्यारी चीज क्रिकेट को नहीं छीन सकती।

युवराज सिंह ‘द मैन ऑफ वर्ल्ड कप’

इस तरह से युवराज दुनिया के एकमात्र ऐसे खिलाड़ी हैं, जिन्हें 4 वर्ल्ड कप में मैन ऑफ द टूर्नामेंट का खिताब मिला हैं। उनका ये रिकॉर्ड अभी तक किसी ने नहीं तोड़ा और इसके तोड़ना भी काफी मुश्किल है। युवराज के इस खास रिकॉर्ड के लिए हम उन्हें मैन ऑफ द वर्ल्ड कप भी कह सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here