साल 2009 यह वह साल था, जो भारतीय खेल प्रेमी शायद ही कभी भुला सके. टेस्ट हो, वनडे हो या टी ट्वेंटी हर एक फॉर्मेट में टीम इंडिया का खेल देखते ही बनता था. महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में मैन इन ब्लू भारतीय टीम लगातार सफलता के झंडे गाड़ रही थी.

एमएस धोनी को लेकर तो एक कहावत भी काफी चलन में आ गयी थी, कि धोनी अगर पत्थर को भी छुवेगे, तो वो भी सोना बन जायेंगा… वाकई में वह साल कई मायनो में अहम देश के लिए मिल का तथार साबित हुआ था.

आप सभी की जानकारी के लिए बता दे, कि साल 2009 यह वही साल था, जब टीम इंडिया पहली बार टेस्ट रैंकिंग में नंबर- 1 बनी थी. टीम को दुनिया की नंबर- 1 टीम बनाने में कई खिलाड़ियों का एक बहुत बड़ा योगदान रहा था. टीम इंडिया ने श्रीलंका को हराकर टेस्ट रैंकिंग में पहला स्थान पर कब्ज़ा किया था. टीम इंडिया ने मुंबई टेस्ट के दौरान यह मुकाम अपने नाम पर दर्ज किया था.

इस लेख के माध्यम से हम उन खिलाड़ियों के नाम पर नजर डालेंगे, जो उस नंबर- 1 टेस्ट टीम का हिस्सा थे और मौजूदा समय में क्या क्या कर रहे हैं…

वीरेंद्र सहवाग 

श्रीलंका के खिलाफ खेली गयी यह टेस्ट सीरीज वीरेंद्र सहवाग के लिए बहुत यादगार रही थी. ब्रेबोन टेस्ट मैच के दौरान वीरू की 293 रनों की पारी आज भी लोगों को याद हैं. इस पारी के दौरान 284 रनों तो सहवाग ने एक ही दिन में बना डाले थे. 2015 में क्रिकेट को अलविदा कहने वाले वीरेंद्र सहवाग मौजूदा समय में हिंदी कमेंटरी टीम के साथ जुड़े हुए हैं.

मुरली विजय 

उन दिनों मुरली विजय को देश के लिए खेलते हुए सिर्फ एक साल ही हुआ था और वह धीरे धीरे टीम में अपने कदम जमा रहे थे. मौजूदा समय में भी मुरली विजय भारतीय टीम के साथ जुड़े हुए हैं. वीरेंद्र सहवाग के सन्यास और गौतम गंभीर के टीम से ड्राप होने के बाद विजय ने टीम में अपना स्थान बतौर सलामी बल्लेबाज एकदम पक्का करके रखा हुआ हैं.

राहुल द्रविड़ 

मुंबई टेस्ट के दौरान राहुल द्रविड़ ने शानदार 74 रनों की पारी खेली थी और सहवाग के साथ 200 से ज्यादा रनों की साझेदारी भी निभाई थी. द्रविड़ ने 2012 के ऑस्ट्रेलियाई दौरे के बाद क्रिकेट से सन्यास ले लिया था. मौजूदा समय में द्रविड़ इंडिया ए और अंडर- 19 क्रिकेट टीम के हेड कोच की भूमिका में नजर आते हैं.

सचिन तेंदुलकर 

मुंबई टेस्ट के दौरान मास्टर ब्लास्टर सचिन रमेश तेंदुलकर ने भी अपने प्रदर्शन से सभी को प्रभावित किया था और बढ़िया 53 रनों की पारी खेली थी. साल 2013 में सचिन ने क्रिकेट की दुनिया को अलविदा कह दिया था और मौजूदा समय में सीएसी के सदस्य होने के साथ साथ मुंबई इंडियन्स के मेंटर भी हैं.

वीवी एस लक्ष्मण 

वीवी एस लक्ष्मण का भी भारतीय क्रिकेट में खासा योगदान रहा. लक्ष्मण ने 2012 क्रिकेट से सन्यास ले लिया था. मौजूदा समय में कलाईयों के जादूगर वीवी एस लक्ष्मण सनराइजर्स हैदराबाद की टीम के मेंटर के रूप में दिखाई देते हैं और हिंदी कमेंटरी पैनल के साथ भी जुड़े हुए हैं. वीवी एस लक्ष्मण सीएसी के भी सदस्य हैं.

युवराज सिंह 

युवराज सिंह भी उस समय टीम इंडिया का हिस्सा थे. युवी ने अभी तक अपना अंतिम टेस्ट साल 2011 में खेला था और उसके बाद से वह कभी भी टेस्ट टीम में वापसी नहीं कर सके हैं. मौजूदा समय में भी युवी अपनी खराब फिटनेस और फॉर्म के कारण टीम से बाहर चल रहे हैं.

एमएस धोनी {कप्तान}

मुंबई टेस्ट मैच के दौरान टीम के कप्तान रहे महेंद्र सिंह धोनी ने एक ताबड़तोड़ शतकीय पारी खेली थी. 2013-14 के दौरान टेस्ट क्रिकेट से सन्यास लेने वाले एमएस धोनी फ़िलहाल देश के लिए एकदिवसीय और टी ट्वेंटी क्रिकेट खेल रहे हैं. धोनी की अगुवाई में देश ने पहली बार टेस्ट रैंकिंग में पहला स्थान हासिल किया था.

हरभजन सिंह 

उन दिनों ऑफ़ स्पिनर हरभजन सिंह की टीम इंडिया में तूती बोला करती थी. मुंबई टेस्ट में भी भज्जी ने 6 विकेट हासिल किये थे. फ़िलहाल बेहद ही खराब फॉर्म के चलते सिंह इज किंग के नाम से मशहुर हरभजन सिंह टीम इंडिया से बाहर चल रहे हैं और पंजाब रणजी टीम के लिए बतौर कप्तान रणजी खेल रहे हैं.

ज़हीर खान 

ज़हीर खान भारतीय टीम के दिग्गज और महान तेज गेंदबाजो में से रहे हैं. देश के लिए उनका योगदान कभी भी भुलाया नहीं जा सकता. ज़हीर खान ने सभी को चौकाते हुए साल 2015 में क्रिकेट से सन्यास ले लिया ठान और मौजूदा समय में वह हिंदी कमेंट्री टीम के साथ जुड़े हुए हैं. हाल में ही ज़हीर खान ने अपनी गर्लफ्रेंड सागरिका घाटगे के साथ शादी भी की हैं.

प्रज्ञान ओझा 

प्रज्ञान ओझा भी उस समय टीम इंडिया के साथ जुड़े हुए थे. प्रज्ञान एक लम्बे समय से अपनी खराब फॉर्म के चलते टीम इंडिया से बाहर हैं और अपनी घरेलू टीम हैदराबाद के लिए रणजी ट्रॉफी में खेल रहे हैं.

एस. श्रीसंत 

फिक्सिंग के आरोप में लिप्त तेज गेंदबाज शांतकुमारन श्रीसंत भी मुंबई टेस्ट में टीम इंडिया का हिस्सा थे. 2013 में आईपीएल के दौरान राजस्थान रॉयल्स के लिए खेलते हुए श्री को मैच फिक्सिंग के संगीन आरोप में पकड़ा गया था. हाल में ही केरल हाई कोर्ट ने उनको सभी आरोपों से बरी कर दिया था, लेकिन बीसीसीआई ने उन्हें अभी भी माफ़ नहीं किया हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here