डोनाल्ड ट्रंप ने शुक्रवार रात अमेरिका के 45वें राष्ट्रपित के तौर पर शपथ ली और ट्रंप अब दुनिया के सबसे ताकतवर शख़्स बन गए हैं। शपथ लेने के दौरान ट्रंप ने कहा कि दुनिया से कट्टरपंथी इस्लामी आतंकवाद का सफाया करेगा। ट्रंप ने कहा कि हम पुराने गठजोड़ों को नयी ताकत देंगे और नया स्वरूप बनाएंगे।

ट्रंप ने लिंकन की बाइबल पर हाथ रखकर ली शपथ- 

70 साल के डोनाल्ड ट्रंप ने नेशनल मॉल में शपथ ली। शपथ लेने के दौरान करीब 8 लाख लोग मौजूद थे। ट्रंप ने अब्राहिम लिंकन की बाइबल पर हाथ रखकर शपथ ली। ट्रंप को अमेरिका के मुख्य न्यायाधीश जॉन रॉबर्ट ने शपथ दिलाई। शपथ के बाद उन्होंने देशवासियों से वादा किया कि देश के एक फिर से निर्माण किया जाएगा जिससे वह वापस अपने सपने संजो सके और वही अमेरिका के शासन का मूल मंत्र होगा।

यह भी पढ़ें- नोटबंदी के फैसले का फीडबैक ले रही है मोदी सरकार, रोजाना आधा दर्जन एजेंसियां कर रहीं हैं सर्वे

कट्टरपंथी इस्लामी आतंकवाद को होगा सफाया- डोनाल्ड ट्रंप

डोनाल्ड ट्रंप ने शपथ के दौरान  धरती से कट्टरपंथी इस्लामी आंतकवाद का सफाया करनेका संकल्प लिया और दुनिया को विश्वास दिलाया कि उनकी सरकार दूसरे देशों पर अपना शासन नहीं थोपेगी। उन्होंने अपने 16 मिनट के संबोधन में कहा कि ‘‘हम साथ मिलकर अमेरिका और दुनिया की कार्यप्रणाली तय करेंगे जो आने वाली कई सालों के लिए होगी। हम चुनौतियों का सामना करेंगे, हम कठिनाइयों का सामना करेंगे, लेकिन अपना काम पूरा करेंगे।

यह भी पढ़ें- अब शराब का बिजनेस करेगी पं. बंगाल सरकार

ट्रंप ने यह भी कहा कि “नेता समृद्ध हुए, लेकिन लोगों की नौकरियां चली गईं और फैक्टरियां बंद हो गईं। प्रशासनिक प्रतिष्ठान ने खुद की रक्षा की, लेकिन हमारे देश के नागरिकों की रक्षा नहीं की उनकी जीत आपकी नहीं रही। उनकी खुशहाली आपकी खुशहाली नहीं रही। जब उन्होंने हमारे देश की राजधानी में जश्न मनाया तो पूरे देश में संघर्ष कर रहे परिवारों के लिए जश्न मनाने के लिए बहुत मामूली चीजें थीं।”

आपको बता दें कि पिछले साल नवंबर माह में अमेरिका में राष्ट्रपित पद के लिए चुनाव हुए थे जिसमें डोनाल्ड ट्रंप ने  हिलेरी क्लिंटल को पराजित किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here