देशभर में कॉल ड्रॉप से हो रही जनता की परेशानियों को देखते हुए दूर संचार विभाग ने मार्च 2017 तक डेढ़ लाख बेस ट्रांसिवर स्टेशन्स(बीटीएस) लगाने का लक्ष्य रखा है। अब तक टेलीकॉम सेवा देने वाली कंपनियों प्रदाताओं ने कॉल ड्रॉप की समस्या को दूर करने के लिए जून से अक्टूबर के बीच देशभर में 1 लाख 30 हजार अतिरिक्त बीटीएस स्थापित किए हैं ।

आईवीआरएस द्वारा लेंगे फीडबैक

हाल ही में दूर संचार विभाग ने ग्राहकों से सीधी प्रतिक्रिया प्राप्त करने  के लिए इंटीग्रेटिड वॉयस रिस्पॉन्स सिस्टम (आईवीआरएस) स्थापित किया है। इससे मिले फीडबैक का इस्तेमाल कॉल ड्रॉप की समस्या दूर करने के लिए किया जायेगा। डीओटी (डिपार्टमेंट ऑफ टेलीकॉम्यूनिकेशन्स) की सहायता से शुरू की गई इस सेवा का जल्द की पूरे देश में विस्तार किया जायेगा। एयरटेल का बड़ा धमाका, अनलिमिटेड कॉल्स के नए ऑफर किये पेश, सिर्फ 2 स्टेप्स में मिलेगा लाभ

 

संचार मंत्री मनोज सिन्हा ने कहा, “ग्राहकों से सीधी प्रतिक्रिया हासिल करने के लिए यह मंच एक माध्यम है और ग्राहकों की दर्ज की गई प्रतिक्रिया का प्रयोग उन्हें बेहतर सुविधाएं प्रदान करने के लिए किया जा सकता है।”

मनोज सिन्हा ने कहा कि शुरूआत में सरकार कॉल ड्रॉप्स रोकने के लिए इस मंच का प्रयोग करेगी और भविष्य में अन्य क्षेत्रों में ग्राहकों की प्रतिक्रिया हासिल करने के लिए इसका विस्तार करेगी।  अब एयरटेल और आईडिया देंगे JIO को टक्कर, 4G डेटा के साथ अनलिमिटेड कॉल फ्री

फीडबैक को टेलीकॉम कंनियों से करेगी शेयर

“ग्राहकों को शॉर्ट कोड 1955 से एक आईवीआरएस कॉल मिलेगी। उनसे कॉल ड्रॉप्स से संबंधित कुछ सवाल पूछे जायेंगे, जैसे कि उनके क्षेत्र में कॉल ड्रॉप की समस्या है या नहीं? वे उसी शॉर्ट कोड 1955 पर जिस शहर, गांव या कस्बे में कॉल ड्रॉप की समस्या है, उसके नाम सहित एक टोल फ्री एसएमएस भेज सकते हैं।” कस्टमर्स के फीडबैक को सभी टेलिकॉम कंपनियों से साझा किया जायेगा, ताकि वे कॉल ड्रॉप की समस्या को लेकर उन क्षेत्रों में सुधारात्मक कदम उठा सकें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here