आजकल लोगों में एक समस्या देखी जाती है कि जो लोग ज्यादा धूम्रपान करते हैं उनके शुक्राणुओं में कमी आ जाती है। इन लोगों में इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की समस्या के लिए जिम्मेदार हो सकते हैं। इसको लेकर एक रिसर्च के अनुसार डाईबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर और हाई कोलेस्ट्रोल भी इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की समस्या के लिए जिम्मेदार हो सकते हैं।

रिसर्च में यह भी सामने आया है कि शुक्राणुओं में कमी और शुक्राणुओं की गुणवत्ता में भी कमी आ जाती है। वहीं इरेक्टाइल डिस्फंक्शन यानि पुरुषों में उत्तेजना की कमी ये दो कारणों शारीरिक और मनोवैज्ञानिक दोनों कारणों से हो सकते हैं।इस तरह के पुरुषों से सेक्स करन को उतावली रहतीं हैं महिलाएं जिनकी बॉडी पर होता है ये निशान

वहीं इस बारे में इंडियन मेडीकल एसोसिएशन (आईएमए) डॉ. ए. के अग्रवाल का कहना है कि यौन उत्तेजना के दौरान ब्रेन, हार्मोन, इमोशंस, नर्वस मसल्स और ब्लड वैशल्स शामिल रहतीं हैं। जब इनमें कोई समस्या होती है तो ईडी हो सकता है।  स्ट्रेस इस सिचुएशन को बिगाड़ सकता है।

वहीं डॉक्टर अग्रवाल ने यह भी बताया कि ईडी से पीड़ित लोग जीवनशैली में बदलाव करके अपने यौन जीवन को बेहतर कर सकते हैं। इसके लिए धूम्रपान कम करना और व्यायाम जरूरी है।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here