किसी ने सपने में भी नहीं सोचा था कि, हरियाणा के छोटे से गांव से निकलकर एक लड़की पूरी दुनिया में भारत का नाम रोशन कर देगी। लेकिन झज्जर की मानुषी छिल्लर ने 17 साल बाद भारत को मिस वर्ल्ड का खिताब दिलाकर इसे हकीकत में बदल दिया है। जी हां, इस साल का मिस वर्ल्ड का खिताब भारत की मानुषी छिल्लर ने अपने नाम कर लिया है। चीन में हुए मिस वर्ल्ड कॉम्पिटिशन में मानुषी 118 देशों की कंटेस्टेंट में से मिस वर्ल्ड चुनी गईं।

देश के लिए साल 1966 में पहली बार रीता फारिया ने मिस वर्ल्ड खिताब जीता था। इसके बाद साल 1994 में एेश्वर्या राय, 1997 में डायना हेडन, 1999 में युक्ता मुखी और साल 2000 में प्रियंका चोपड़ा ही मिस वर्ल्ड का ताज पहने में कामयाब रही थीं। आज 17 साल बाद मानुषी छिल्लर मिस वर्ल्ड 2017 बनी हैं।

मिस वर्ल्ड कॉम्पिटिशन में पहली रनरअप मिस इंग्लैंड स्टेफ्नी हिल रहीं, जबकि सेकंड रनरअप पर मिस मैक्सिको एंड्रिया मेजा बनीं। इन दोनों ने ही मानुषी को कड़ी टक्कर दी थी, लेकिन अंत में ताज मानुषी जीतने में कामयाब रहीं। मानुषी छिल्लर का जन्म 14 मई 1997 को हरियाणा के झज्जर में हुआ था।

मानुषी के पिता मित्रबसु एक वैज्ञानिक हैं जो फिलहाल डिफेंस रिसर्च एंड डिवेलपमेंट अॉर्गनाइजेशन (DRDO) में काम कर रहे हैं। उनकी मां नीलम दिल्ली के इबहास में डिपार्टमेंट अॉफ न्यूरोकैमिस्ट्री की हेड हैं। मानुषी 1966 में पहली बार मिस वर्ल्ड का खिताब जीतने वाली रीता फारिया को अपना आदर्श मानती हैं।

मानुषी को इसी साल 25 जून को फेमिना मिस इंडिया के खिताब से नवाजा गया था। वह भारत के लिए मिस वर्ल्ड खिताब जीतने वाली छठी महिला हैं। वह मेडिकल की पढ़ाई कर रही हैं। इसके साथ ही वह एक ट्रेंड कुचिपुड़ी डांसर भी हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here