मौजूदा समय में ज्यादातर देश बुलेट ट्रैन की तरफ अपना रुख कर रहे हैं। वहीँ इसक अलावा भी कुछ देश ऐसे भी हैं जोकि अपने अजीब रेलवे ट्रैक के कारण सुर्ख़ियों में रहते हैं। बता दें इसमें से कुछ तो ऐसे हैं जोकि भरे बाजार में से होकर निकलते हैं। वहीँ इसके अलावा कुछ ऐसे भी हैं। जोकि रेलवे ट्रैक हवाई अड्डे, गहरे टनल, समुद्र, नदियों के बीच में से होकर निकलते हैं।

तो चलिए आज हम इसी कड़ी में बात करते हुए आज आपको दुनिया के कुछ अजीबोगरीब रेलवे ट्रैक के बारें में बताएंगे। जिनको शायद ही आप सभी ने देखा होगा। चलिए जानते हैं।

मैकलॉन्ग मार्केट रेलवे

रेलवे ट्रैक पर बना थाईलैंड का मैकलॉन्ग मार्केट अपने आप में किसी आश्चर्य से कम नहीं है। इस मार्किट की सबसे अलग बात ये हैं कि यहां के लोग पटरियों में मार्किट लगाकर अपना सामान बेचते हैं। इसके बाद जैसे ही ट्रैन यहां से निकलती हैं उससे पहले ही ये लोग अपना सामान समेट लेते हैं। वहीँ ट्रैन के निकल जाने के बाद ये लोग फिर से लगा लेते हैं।

नेपियर-जिस्बॉर्न रेलवे

नेपियर से जिस्बॉर्न का रेलवे ट्रैक सबसे अलग हैं। बता दें यह रेलवे ट्रैक जिस्बॉर्न हवाई अड्डा के मुख्य रनवे से होकर निकलता हैं। यहां से ट्रेनों को निकलने के लिए एयर ट्रैफिक कंट्रोल रूम से इजाजत लेनी पड़ती है। इस तस्वीर में हवाई अड्डे के रनवे के बीच 1939 स्टीम ट्रेन निकलती हुई नजर रही हैं।

ट्रेन ए लास न्यूब्स

ये ट्रैन एक पर्यटन ट्रैन हैं। ये ट्रैन साल्ट प्रोविन्स, अर्जेंटीना में अपनी सर्विस प्रदान करती हैं। यह ट्रैन इस सर्विस को फेरोकेरिल जनरल मैनुअल बेलग्रोन के सी-14 लाइन पर दिया जाता हैं। यह ट्रैन 4220 मीटर (13,850 फीट) ऊपर ब्रिज से होकर निकलती हैं। जिसे दुनिया का तीसरा सबसे लंबा ट्रैन ट्रैक माना जाता हैं।

ट्रांस-साइबेरियन रेलवे


यह रेलवे ट्रैक तीन समुद्र को जोड़ता है। जिसके कारण इसे दुनिया की सबसे लंबी रेलवे लाइन कहा जाता है। इतना ही नहीं यह ट्रैक मंगोलिया, चीन और उत्तर कोरिया की लाइनों से भी जुड़ा हुआ है।

लैंड वासर विडक्ट

बता दें इस ट्रैक को लैंड वासर नदी पर बनाया गया हैं। यहां की सबसे खास बात यह हैं कि ट्रेन ब्रिज से निकलती हुई सीधे सुरंग में निकल जाती है। जहां पर ट्रैन एक दम अँधेरे में 63 किलोमीटर का सफर तय करती है। इसकी ये अनोखी खूबी इस सफर को और भी ज्यादा रोमांचक बनता हैं। इतना ही नहीं इस सफर के दौरान नदी के साथ -साथ पहाड़ियों का मजा भी देखने को मिलता है। इस ब्रिज को 102 साल पहले 1902 में बनाया गया था।

जॉर्जटाउन लूप रेल रोड


यहां पर बना ये रोड ज्यादातर पर्यटकों का आकर्षण रहता है। इस ट्रैक को साल 1884 में बनाया गया था। यह ट्रैक जॉर्ज टाउन और सिल्वर प्लम कस्बों की पहाड़ियों में से होकर निकलता हैं। इन दो जगहो को जोड़ता हैं। यह ट्रैक 600 फीट की ऊंचाई पर बना हुआ हैं। इसके साथ ही इस ट्रैक पर चार पुल बनाये गए हैं। जिसमें से एक का नाम पुलडेविल गेट हाई ब्रिज हैं.

द डेथ रेलवे

बता दें इस ट्रैक को डेथ रेलवे भी कहा जाता है। यह बैंकॉक, थाईलैंड और रंगून, वर्मा के बीच 415 किलोमीटर पर बना हुआ है। इस ट्रैक को बनाते समय कम से कम 90,000 से ज्यादा कर्मचारियों की पल से नदी में गिरने के कारण मौत हो गयी थी। लेकिन मौजूदा समय में ये रूट काफी ज्यादा फेमस हो गया हैं। यहां आकर लोग इस रूट पर समय भी बिताते हैं।

गेओनग्वा स्टेशन

यह रेलवे ट्रैक दक्षिण कोरिया में बना हुआ है। जहां करीबन 340,000 चेरी के पेड़ हैं। इन पेड़ों से फूल झड़ने के कारण इस ट्रैक पर बस फूल ही फूल दिखाई देते हैं। जिसके कारण ये देखने में भी बेहद खूबसूरत दिखाई देता है। यहां पर्यटकों को आना बहुत ज्यादा पसंद हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here