महिलावाद की परिभाषा क्या है…? आखिर इस शब्द की जरूरत क्यों पड़ी? महिलाओं की समस्यायें क्या-क्या हैं? इसे लेकर लम्बे समय से एक बहस छिड़ी हुई है. कहा जाता है कि दुनिया भर में महिलाओं को उतने अधिकार नहीं दिए जा रहे जितने उन्हें मिलने चाहिए. इस बीच महिलाओं से छेड़-छाड़ और बलात्कार की वारदातें भी आये दिन सभ्य समाज के मुंह पर तामाचा मारने का काम करती हैं.

ऐसे में महिलाओं के हक़ में बात करने की तेजी से पहल की जा रही है. इस महिला क्रांति के फायदों के अलावा कुछ नकारात्मक पहलू भी सामने आ रहे हैं, जिनका समाज पर बुरा असर पड़ सकता है. जैसे कि महिलावाद की आड़ में कई जगह पुरुषों का शोषण भी शूरू हो गया है. कई बहुए अपने ससुराल वालों को झूठे उत्पीड़न के आरोप में जेल की हवा भी खिला चुकी है. रणवीर हमेशा से मनोरंजन जगत से जुड़ना चाहते थे

महिला सशक्तिकरण के सभी पहलुओं और उन्हें लेकर समय-समय पर समाज में आये बदलावों को विस्तृत रूप में समझाने वाला एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है. इस वीडियो में नारीवाद को अर्थव्यवस्था से जोड़ा गया है. वीडियो की खास बात ये है कि यह जानकारी और मनोरंजन का एक संतुलित पैकेज है. जिसे देखकर नारीवाद के प्रति आपकी समझ भी बढ़ेगी और आपके मन में हसगुल्ले भी फूटेंगे. बुलिंग बर्दाश्त नहीं कर सकती कंगना रानौत

देखें वीडियो – 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here