मुंबई! हमारे समाज में शादी को एक पवित्र रिश्ता माना जाता है. लेकिन समाज के कुछ लोग इन नियमों को तोड़कर अपना नियम बना लेते हैं. आजकल भारत देश में 377, 497 को लेकर जहां सभी के बीच में चर्चा का विषय बना हुआ है वहीँ दुनिया का एक देश ऐसा भी है जहाँ लोग बिना शादी किए पूरा जीवन साथ बिताते हैं.

दक्षिण-पश्चिम चीन में मूसो जाति के लोगों का साथी चुनने का तरीका हमारे समाज से बिल्कुल ही अलग है, यहां के लोग शादी नहीं बल्कि ‘वॉकिंग मैरिज’ करते हैं. कुछ देश ऐसे भी हैं जहां लोग लिव-इन रिलेशनशिप में रहना पसंद करते हैं. लेकिन लोग इस रिश्ते को अपनाते नहीं है. वहीँ इस देश के लोग   बिना शादी किए ही साथी के साथ जीवन बिताते हैं.

वॉकिंग मैरिज एक ऐसी शादी होती है जिसमें दोनों में से कोई अपने रिश्ते से कभी भी बहार जा सकता है. इस शादी में महिला मुख्य किरदार निभाती है. मूसो जाति का समाज नारी प्रधान माना जाता है.  न की भारत की तरह पुरूष प्रधान देश है. यहाँ पर पुरुष को चुनने और अहम फैसले लेने तक का अधिकार महिलाओं के पास रहता है. इस समाज में महिला एक से ज्यादा साथी चुनने के लिए पूरी तरह से आजाद होती है.

पवित्र रिश्ता

इस जाति पुरुष महिलाओं के साथ नहीं रहते. वे पूरे दिन फिशिंग, शिकार और दूसरे कामों में व्यस्त रहते हैं. केवल रात को अपनी साथी के पास सोने के लिए जाते हैं.

इस समाज की सबसे खास बात यह है कि यहां 13 साल की लड़की को किसी भी पुरुष से प्रेम करने का अधिकार मिल जाता है. लड़की के बालिग होने के बाद उसे अपना अलग कमरा दे दिया जाता है, जहां वह अपनी पसंद के लड़के के साथ वक्त बिता सकती है.

आपको बता दें इस रिश्ते में पुरुष महिला की किसी तरह की आर्थिक मदद नहीं करता, बच्चे होने पर भी उसकी पूरी जिम्मेदारी मां और उसके घर वालों पर ही रहती है.

पवित्र रिश्ता

दक्षिण-पश्चिम चीन का यह इलाका पर्यटन का खास केंद्र माना जाता है. यहाँ पर झील के किनारे लोगों ने कच्चे घर बना लिए हैं, जहां बाहर से आने वाले सैलानी रह सकते हैं.

यहां मूसो जाति के आदिवासी पारंपरिक डांस कर लोगों का मनोरंजन भी करते हैं. ज्यादातर लोग यहाँ पर बस औरतों को देखने आते हैं.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here