भारत और न्यू ज़ीलैण्ड के बीच हुए कानपुर में सीरीज के आखिरी मैच में दर्शकों को फुल पैसा वसूल मुकाबला देखने को मिला. दोनों ही टीमें हार मानने को तैयार नहीं थी. आखिर में भारत यह मुकाबला केवल 6 रनों से जीतने में सफल हुआ. एक समय न्यूज़ीलैण्ड बेहद मजबूत स्थिती पर पहुँच चुका था. इस मैच का रोमांच आखिरी ओवर तक रहा. आखिरी ओवर में न्यूज़ीलैण्ड को जीत के लिए 15 रनों की जरूरत थी.

इस ओवर में बुमराह ने वो कमाल कर दिखाया जिसकी उम्मीद उनसे कप्तान कोहली और पूर्व कप्तान धोनी के आलावा पूरे देशवाशी कर रहे थे. मगर एक समय ऐसा आया कि कोहली बुमराह के ऊपर हंस रहे थे, जबकि बुमराह ने विकेट उखाड़ दिया था.

आखिरी ओवर का रोमांच-

 

आखिरी ओवर में कप्तान विराट ने अपने डेथ ओवर के सबसे सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज जसप्रीत बुमराह को गेंद थमाई. स्टाइक पर कोलिन डि ग्रैंडहोम थे. बुमराह ने पहली गेंद ऑफ स्टंप के बाहर यॉर्कर फेंकी. गेंद बल्ले से लगकर सीधे उनके हाथ पर आई. दूसरी गेंद पर ग्रैंडहोम ने सिंगल चुरा लिया. अब स्ट्राइक पर थे सेंटनर.

एक ओवर पहले छक्का लगा चुके सेंटनर पूरी तरह से सेट नजर आ रहे थे. विकेटों के पीछे धोनी भांप गए कि सेंटनर मैच निकाल सकते हैं वह सीधे बुमराह के पास गए और उनसे कुछ कहा और फिर से वापस विकटों के पीछे आ गए.

और यहीं काम आया धोनी का तजुर्बा…

 

धोनी के कहे अनुसार, अगली गेंद बुमराह ने शॉर्ट या हाफ-वाली नहीं डाली बल्कि फुलटॉस डाल दी, सेंटनर इस गेंद की बिलकुल भी उम्मीद नहीं कर रहे थे और वह गेंद को हवा में खेल गए, गेंद ज्यादा दूर नहीं गई और मिड विकेट पर धवन ने कैच पकड़ लिया, इस तरह से सेंटनर का खात्मा हो गया और टीम इंडिया ने आखिरकार मैच अपनी झोली में डाल लिया.

जब लेथम हुए आउट तब धोनी ने लगाए ठहाके-

न्यूज़ीलैण्ड के भारत दौरे के हीरो रहे लेथम जब आउट हुए उसमे भी धोनी ने अहम भूमिका निभाई थी. बुमराह ने लेथम को रन आउट किया था. लेकिन इसके बाद धोनी बुमराह पर हंस रहे थे.वह बुमराह की तरफ देखकर कह रहे थे, कि आप आगे जाकर भी गेंद स्टंप पर मार सकते थे.

लेथम के रन आउट के बारे में बातचीत करते हुए बुमराह ने कहा, “मुझे स्टंप्स पर जाना चाहिए था और विकेट बिखेर देने चाहिए थे। यह अच्छा रहा कि मैं स्टंप्स में गेंद मार सका. ऐसी ही चीज इंग्लैंड में हुई थी, इसीलिए धोनी हंस रहे थे.”

धोनी पूरे मैच के दौरान बेहद सक्रीय रहे. मैच के अन्तिम क्षणों पर धोनी विराट से ज्यादा सक्रीय थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here