यूपी एटीएस द्वारा आईस के आतंकी सैफुल्ला को करीब 12 घंटे तक चली मुठभेड़ में ढ़ेर कर दिया है। मारा गया आतंकी मध्यप्रदेश में मंगलवार को भोपाल-उज्जैन पैसेंजर ट्रेन में हुए विस्फोट का मुख्य आरोपी था। उसके कमरे से भारी मात्रा में विस्फोटक और एक डायरी बरामद हुई है। इस डायरी में उसका दिनभर का शेड्यूल लिखा हुआ है। इससे पता चला है कि वह देश के खिलाफ युवाओं को भड़काने के लिए क्या-क्या हथकंडे अपनाता था।

एटीएस के आईजी असीम अरुण से मिली जानकारी के अनुसार एटीएस को डायरी के दो पेज हासिल हुए हैं। जिसमें उसके रोज का शेड्यूल दर्ज है।

-आम दिनों में वह रोज सुबह 4 बजे उठता था, इसके बाद तहज्जुद यानी प्रार्थना करता था। इसके बाद फज्र की नमाज पढ़ता था।

– उसके बाद वह 7.45 तक वॉक करने जाता था। इसके बाद ब्रेकफास्ट करता था, इसी दौरान उसका फरहत हाशमी और अन्य के साथ लेक्चर का भी शेड्यूल दर्ज है।  आतंकी बुरहान बानी को ढेर करने वाले 3 जवान सेना मैडल से सम्मानित

-लेक्चर के बाद करीब डेढ़ घंटे तक वह प्रवचन तैयार करने, रटने आदि का काम करता था। इसी दौरान अपना लंच भी तैयार कर लेता था।

-12.30 बजे वह नमाज पढ़ता था, उसके बाद भोजन करता, फिर 4 बजे असर की नमाज तक आराम करता। असर की नमाज के बाद सैफुल्लाह कुरान को विस्तार से पढ़ता था।

 

– इसके बाद वह अन्य दस्तावेज जो उसके पास उपलब्ध थे, वह उसे पढ़ता था। शाम छह बजे मगरिब की नमाज पढ़ता था, उसके बाद वह इस्लामी न्याय शास्त्र का अध्ययन करता था और साथ में डिनर भी बना लेता था।    एक बार फिर पाकिस्तान का खौफनाक चेहरा आया सामने, कश्मीर में मारे गये आतंकवादी भी पाकिस्तानी नागरिक

-आखिर में ईशा की नमाज अदा करने के बाद वह भोजन करता और सोने चला जाता। वहीं रमजान के दिनों में उसका शेड्यूल थोड़ा बदल जाता था।

Untitled design (53)

यूपी की राजधानी लखनऊ में हुई मुठभेड़ और कानपुर, उन्नाव से कुछ लोगों को गिरफ्तार किया गया है। जिनके  तार आईएसआईस से जुड़े हुए हैं। उनके पास से बम बनाने का वीडियो और भड़काऊ लिट्रेचर भी बरामद हुआ है। ये सभी लोग सोशल मीडिया के थ्रू आईएस के संपर्क में आए थे।  पुलिस का दावा है कि ये आतंकी लखनऊ के आसपास 27 मार्च के बाद बड़े धमाके करने की प्लानिंग कर रहे थे। में थे। एडीजी लॉ एंड ऑर्डर दलजीत चौधरी ने बताया कि, कई और स्थानों पर आतंकियों के छिपे होने की जानकारी मिली है। एनआईए समेत केंद्र सरकार की एजेंसियों को सूचना दे दी गई है। लेकिन चिंता कि बात ये है कि क्या आईएसआईएस ने भारत में अपनी दस्तक दे दी है? समय रहते नहीं चेते तो मध्यप्रदेश रेल जैसे हादसे फिर सामने आ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here